Trending
Latest
Trending Newzz

Trending Newzz

20-03-2019

#होलिका दहन

फाल्गुन शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि पर प्रदोष काल में होलिका दहन किया जाता है. ज्योतिष के अनुसार फाल्गुन पूर्णिमा पर भद्रा रहित प्रदोष काल में होली दहन को श्रेष्ठ माना गया है. होलिका पूजा और दहन में परिक्रमा बेहद महत्वपूर्ण मानी जाती है. मान्यता है कि परिक्रमा करते हुए अगर अपनी इच्छा कह दी जाए तो वो सच हो जाती है.

#हैप्पी होली

Repost
Comment
Youth Trend

Youth Trend

20-03-2019

#होलिका दहन

#हैप्पी होली

भारतीय नव संवत्सर चैत्र शुक्ल प्रतिपदा की पहली तिथि को शुरू होता है. इसके आगमन के पूर्व पुराने संवत्सर को विदाई दी जाती है. पुराने संवत को समाप्त करने के लिए होलिका दहन किया जाता है. इसे संवत जलाना भी कहते हैं. होलिका दहन में किसी वृक्ष कि शाखा को जमीन के अंदर डाला जाता है, चारों तरफ से लकड़ियां, उपलों से घेर कर निश्चित मुहूर्त में जलाया जाता है.
Repost
Comment
Maharashtra Live

Maharashtra Live

20-03-2019

#होलिका दहन

#हैप्पी होली

देशभर में 21 मार्च को मनाई जाने वाले होली के त्योहार की तैयारियां पूरी हो गईं हैं. रंगों में डूबने से पहले होलिका दहन का कार्यक्रम होगा. आज शाम देश के तमाम राज्यों में होलिका दहन किया जाएगा.
Repost
Comment
Repost
4
Taaza News&

Taaza News&

20-03-2019

#हैप्पी होली

#होलिका दहन

उत्तर प्रदेश के हिस्से वाले बुंदेलखंड में हर तीज-त्योहार मनाने के अलग-अलग रिवाज रहे हैं. अब होली (Holi) को ही ले लीजिए. करीब एक दशक पूर्व तक होलिका दहन के बाद रात में गांवों के 'लंबरदार' अपने यहां 'चौहाई' (मजदूरी) करने वाले चुपके से दलितों के घरों में मरे मवेशियों की हड्डी, मल-मूत्र और गंदा पानी फेंका करते थे, इसे 'हुड़दंग' कहा जाता रहा है.
1
1
Delhi Live

Delhi Live

20-03-2019

#होलिका दहन

#हैप्पी होली

होली के दिन भद्रा प्रात: 10.44 बजे से रात्रि 8.59 बजे तक। होलिका दहन भद्रा के बाद ही करना शुभ है। ऐसा माना जाता है कि भद्रा में होलिका दहन नहीं किया जाता है। 9 बज कर 28 मिनट से रात्रि 11:58 तक तीन घंटे ही होलिका दहन का शुभ मुहूर्त है।
1
1
1
1
Amit Yadav 5535

Amit Yadav 5535

20-03-2019 Redmi Note 5 Pro

#सुपरभात

#होलिका दहन

1
1
Welike ट्रेंड्स

Welike ट्रेंड्स

20-03-2019 ONEPLUS A5010

#हैप्पी होली

रंग और उल्लास का पर्व

#होली

बुधवार को है। रंगोत्सव यानी धुरड्डी गुरुवार को होगी। काफी समय बाद दोनों ही दिन मातंग योग बन रहा है। भद्रा के अधिक समय रहने के कारण इस बार होलिका दहन बुधवार की रात्रि नौ बजे के बाद हो सकेगा।

#होलिका दहन

4
3
5
5
User name