Trending
Latest
3
3
2
2
Rahul Kumar Doshi

Rahul Kumar Doshi

05-02-2019 G3226
राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय में नाटक देखने का अलग ही मजा है.दो अजीज़ मित्रों के साथ 70वें गणतंत्र दिवस के दिन शाम साढ़े छह बजे एनएसडी में दाखिल हुआ.ताजमहल तो कई बार देख चुका हूँ लेकिन ताजमहल का टेंडर प्रथम बार देख रहा था. "ताजमहल का टेंडर" एक ऐसा नाटक है जो लालफीताशाही नौकरशाही जुमलेबाजी और स्वार्थपन के अलावा उन तमाम विसंगतियों का पर्दाफाश करता है जो शासन-प्रशासन में अब भी मौजूद है.शाहजहाँ के अलावा सभी पात्र आधुनिक हैं.नाटक में मुगल बादशाह शाहजहाँ इतिहास से निकल कर सीधे 20वीं सदी की दिल्ली में गद्दी पर बैठ जाते हैं.उनकी इच्छा है कि अपनी बेगम की याद में यमुना के किनारे एक सुंदर सा ताजमहल बनवाएं.उनकी इच्छा मरते दम तक कागजों पर ही तैरते रह जाती है,जबकि धन की कोई कमी नहीं है. -राहुल कुमार दोषी

#nsd

#tajmahalkatender

National School of Drama
Repost
Comment
1
1
User name